PRINCIPAL MESSAGE

शिक्षा को समसामयिक बनाने, शिक्षण अधिगम में गुणवत्ता संवर्द्धन एवं सार्वभौम प्रारम्भिक शिक्षा की संकल्पना लेकर शिक्षा में एकरूपता लाने के विचार से राष्ट्रीय स्तर पर ‘राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसन्धान और प्रशिक्षण परिषद्, नई दिल्ली की स्थापना एक स्वायत्त संगठन के रूप में, सितम्बर 1961 में की गई। यह संस्थान शिक्षा के विभिन्न स्तरों हेतु पाठ्यक्रम, पाठ्यपुस्तकों एवं अन्य पठन साहित्य के विकास में मार्गदर्शन प्रदान करता है, जिसका अनुसरण देश के समस्त राज्य अपनी आवश्यकतानुसार करते हैं। राष्ट्रीय शैक्षिक कार्यक्रमों में एकरूपता लाने के लक्ष्य से राज्य स्तर पर राज्य शिक्षा संस्थान उत्तर प्रदेश, इलाहाबाद की स्थापना राजाज्ञा सं0 DI/4682/XV38/1963 के अनुसार 1 फरवरी, 1964 को की गयी। राज्य शिक्षा संस्थान उ0प्र0, अपने स्थापना के समय से ही प्रारम्भिक शिक्षा के क्षेत्र में अकादमिक निर्देशन देता रहा है। 1981 में राज्य शैक्षिक अनुसन्धान एवं प्रशिक्षण परिषद, उत्तर प्रदेश, लखनऊ की स्थापना के पश्चात से राज्य शिक्षा संस्थान उ0प्र0, इलाहाबाद परिषद् के तत्त्वावधान में ‘प्रारम्भिक शिक्षा विभाग’ के रूप में कार्यरत है।

राज्य शिक्षा संस्थान की स्थापना के उद्देश्य प्रारम्भिक शिक्षा के उन्नयन हेतु स्थापित इस संस्थान के बहुआयामी कार्यकलापों के मुख्य उद्देश्य निम्नवत हैं-

  • उपयोगी एवं महत्वपूर्ण शैक्षिक साहित्य का सृजन एवं प्रकाशन।
  • शोध कार्यक्रमों द्वारा शैक्षिक गुणवत्ता-उन्नयन।
  • शिक्षकों, शिक्षक-प्रशिक्षकों के सेवाकालीन प्रशिक्षण की व्यवस्था करना।
  • प्राथमिक शिक्षक प्रशिक्षण संस्थाओं के कार्यक्रमों के मूल्यांकन सम्बन्धी कार्यक्रमों का संचालन करना।

- Dr. Ashutosh Dubey

PRINCIPAL

LATEST UPDATES

Latest News/Events

  sie allahabad-2click